रविवार, जनवरी 08, 2012

दस्तक

  
     स्थिर,निष्प्रभ,निश्तब्ध दिल पे
    गाहे बगाहे दे जाती हो दस्तक
    और छेड़ जाती हो हलचलों का 
     एक अंतहीन सा सिलसिला...




 

इस कशमकश में बटोरने लगता हूँ
उन हसीन पलों को, जो साक्षी थे
कभी उस सफ़र के जो बसर हुआ
बिना कुछ कहे बिना कुछ सुने





बस यही मुसलसल रिश्ता है
हमारे दरमियाँ निभाने को ,
जो बसर हो रहा है शिद्दत से
एक तन्हा सफ़र की तरह .....



में जिंदा हूँ तो बस, वक़्त बेवक्त की
आहटों ,दस्तकों और धडकनों
के धमाकों से गिरी यादों के पलों
को उठाकर सहेजने को ,क्योंकि
कुछ तो बहाना हो नीरस सा जीवन
व्यतित करने को ... . . . .

"विक्रम"





















Related Post

widgets by blogtips

18 टिप्‍पणियां:

  1. यही जीवन है ! कुछ पाना कुछ खोना, कुछ छूटना तो कुछ सहेजना और इसी उपक्रम में हमारा जीवन बीत जाता है ।

    संजोते रहिये उन हसीन पलों को और पिरोते रहिये शब्दों में ।
    मन से निकले उदगार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. जीवन है चलने का नाम,...बहुत बढिया प्रस्तुति,मन की भावनाओं की सुंदर अभिव्यक्ति ......
    WELCOME to--जिन्दगीं--

    उत्तर देंहटाएं
  3. इसे ज़िंदगी का एक हिस्सा मानिये ......

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहद ख़ूबसूरत एवं उम्दा रचना! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर अभिव्यक्ति बढ़िया रचना,....
    welcom to new post --"काव्यान्जलि"--

    उत्तर देंहटाएं
  6. जीने के लिए कोई-न -कोई उम्मीद तो चाहिए ही ...सार्थक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. स्थिर,निष्प्रभ,निश्तब्ध दिल पे
    गाहे बगाहे दे जाती हो दस्तक
    और छेड़ जाती हो हलचलों का
    एक अंतहीन सा सिलसिला...
    मन को छू गई आपकी ,यह सुन्दर रचना,शुभकामनाये.


    vikram7: हाय, टिप्पणी व्यथा बन गई ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. स्थिर,निष्प्रभ,निश्तब्ध दिल पे
    गाहे बगाहे दे जाती हो दस्तक
    और छेड़ जाती हो हलचलों का
    एक अंतहीन सा सिलसिला...
    मन को छू गई आपकी ,यह सुन्दर रचना,शुभकामनाये.


    vikram7: हाय, टिप्पणी व्यथा बन गई ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. यादें कितना कुछ दे जाती हैं जीने के लिए!

    उत्तर देंहटाएं
  10. ये हसीं पल ही तो जिंदगी के साथी है.... बहुत ही भावपूर्ण एवं सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  11. जीवन की सटीक परिभाषा।
    बधाई........

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत उम्दा रचना है......यादें ही जीवन की पूंजी होती है ,कुछ खट्टी कुछ मीठी, उन यादों के सहारे ही जीवन की नीरसता से लड़ाई करते हुए आगे बढ़ा जा सकता है.......

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपके पोस्ट से बहुत कुछ सीखने औप जानने का मौका मिला । प्रस्तुति अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट "लेखनी को थाम सकी इसलिए लेखन ने मुझे थामा": पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. जब बहुत सी हसरतें पूरी हो जाती हैं तब जीवन नीरस हो जाता है. प्रेम को विकसित करने का यही समय होता है. बढ़िया रचना.

    उत्तर देंहटाएं

मार्गदर्शन और उत्साह के लिए टिप्पणी बॉक्स हाज़िर है | बिंदास लिखें|
आपका प्रोत्साहन ही आगे लिखने के लिए प्रेरित करेगा |