शनिवार, नवंबर 24, 2012

घुसपैठ


मेरे तन्हा मन पे
निरन्तर होती है
घुसपैठ
तेरी यादों की,
और देर तक
होता है संघर्ष
टूटे ख्वाबों
को लेकर  ,
आखिरकार
पानी ज्यों बहते है
अश्क दोनों के, 
क्यों ना हम
मिलकर एक
समझौता करें, की ,
उधर तुम ,
अपनी यादों को
बांध के रखो ,
और इधर में,
करता हूँ कोशिश
बहलाने की,
इस  मासूम
दिल को।   

"विक्रम"

Related Post

widgets by blogtips

18 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्‍दर विक्रम जी ''मेरे तन्‍हा दिल पर होती घुसपैठ'' । अच्‍छी है आपकी लिखी पंक्तियां

    उत्तर देंहटाएं
  2. यादों को ही तो नहीं बंधा जा सकता .... सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं

  3. मेरे तन्हा मन में
    निरन्तर होती है घुसपैठ
    तेरी यादों की,
    और देर तक होता है संघर्ष
    टूटे ख्वाबों को लेकर …
    आखिरकार
    पानी ज्यों बहते है अश्क दोनों के…


    बहुत सुंदर विक्रम जी !

    बेहतरीन !
    संवेदनशील रचना !
    वाऽह ! क्या बात है !

    …आपकी लेखनी से सुंदर रचनाओं का सृजन ऐसे ही होता रहे …
    शुभकामनाओं सहित…

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (25-11-2012) के चर्चा मंच-1060 (क्या ब्लॉगिंग को सीरियसली लेना चाहिए) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर....काश यादों को बांधा जा सकता ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह...
    बहुत सुन्दर...
    कोमल सी कविता..

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  7. कोमल भाव की रचना...
    अति उत्तम प्रस्तुति....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर भाव ....सुंदर रचना ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. उधर तुम ,
    अपनी यादों को
    बांध के रखो ,
    और इधर में,
    करता हूँ कोशिश
    बहलाने की,
    इस मासूम
    दिल को।


    अहा ये नाजुक सी कविता ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत खूब ... पर यादें किसके रोके रूकती हैं ...
    चली आती हैं बिन बुलाये बिन भेजे ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. कोशिश तो कर लेंगे पर सफलता इतनी आसान नहीं होगी दिल को बहलाने की :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. करता हूँ कोशिश
    बहलाने की,
    इस मासूम
    दिल को।

    क्‍या बात है। बहुत ही सुन्‍दर रचना।

    शुभकामनाओं सहित आपका संजय सिंह जादौन

    उत्तर देंहटाएं

मार्गदर्शन और उत्साह के लिए टिप्पणी बॉक्स हाज़िर है | बिंदास लिखें|
आपका प्रोत्साहन ही आगे लिखने के लिए प्रेरित करेगा |

 

WWWW

loading...