शनिवार, दिसंबर 15, 2012

तनहा सा मकान

सूनी-सी  पगडण्डी के
दुसरे  छोर पर ,
वो  तनहा  सा मकान
खड़ा है संजोये अतीत के
कुछ हसीन लम्हे,
निस्तेज, निस्तब्ध ,सुनसान !
उसकी बूढी दीवारों पे
हरी काली सिवार ,
लिपटी है लिए,
मिलन बिछोह के निशान .
टूटकर झूलता वो दरवाजा ,
किसी ने थामकर जिसे ,
गुजारे थे इन्तजार के
वो बोझिल लम्हे तमाम
-विक्रम 

Related Post

widgets by blogtips

14 टिप्‍पणियां:

  1. वाह......
    बेहद कोमल अभिव्यक्ति.
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. तन्हा मकान ... और उसका दरवाजा जिस पर खड़े हो किसी ने वक़्त बिताया था इंतज़ार में ... बहुत सुंदर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. "उसकी बूढी दीवारों पे
    हरी काली सिवार,
    लिपटी है लिए,
    मिलन बिछोह के निशान"

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर और मर्मस्पर्शी रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  5. कितनी यादें हैं बाबस्ता उस तन्हा मकां के साथ ...
    मर्म को छूती हुई रचना ...

    उत्तर देंहटाएं

  6. टूटकर झूलता वो दरवाजा ,
    किसी ने थामकर जिसे ,
    गुजारे थे इन्तजार के
    वो बोझिल लम्हे तमाम…

    वाऽह !
    बहुत खूब !

    विक्रम जी
    सुंदर कविता

    शुभकामनाओं सहित…

    उत्तर देंहटाएं
  7. सूनी-सी पगडण्डी के
    दुसरे छोर पर ,
    वो तनहा सा मकान
    बहुत सुन्‍दर रचना है आपकी विक्रम जी।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सूनी-सी पगडण्डी के
    दुसरे छोर पर ,
    वो तनहा सा मकान

    बहुत सुन्‍दर रचना। विक्रम जी

    सुन्‍दर आलेखन के लिए ढेरों शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर कोमल भावभीनी प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी इस कविता के ज़रिए ये तन्हा सा मकान बहुत कुछ कह रहा है।।।

    उत्तर देंहटाएं
  11. टूटकर झूलता वो दरवाजा ,
    किसी ने थामकर जिसे ,
    गुजारे थे इन्तजार के
    वो बोझिल लम्हे तमाम
    वाह . बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार आपका ब्लॉग देखा मैने और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  12. आज का यह तन्हा मकान कभी आबाद था
    सुंदर अभिवयक्ति की आपने

    उत्तर देंहटाएं

मार्गदर्शन और उत्साह के लिए टिप्पणी बॉक्स हाज़िर है | बिंदास लिखें|
आपका प्रोत्साहन ही आगे लिखने के लिए प्रेरित करेगा |