सोमवार, दिसंबर 31, 2012

द्रोपदी

क्षितिज की
खोहों तक
पसरा सन्नाटा और
शाखाओं पर बैठे 
शोकाकुल पक्षी,
देकर  उलाहना
भौर की लालिमा को ,
को बता रहे हैं
बीती  रात
का वो स्याह सच ,
और दिखा रहे है
इशारों से
धरा का  वो
सलवटी हिस्सा
जिस पर मिलकर ,
दुशासनों ने
जी-भरकर ,
नोचा-खसोटा और
फेंक दिया जूठन सा
एक द्रोपदी को , मगर
सुनकर उसका 
कारुणिक क्रंदन
नहीं आया कहीं से
एक भी देवकीनंदन

-विक्रम

Related Post

widgets by blogtips

11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही मार्मिकता के साथ लिखा है! सतयुग की द्रोपदी के साथ कलयुग की द्रोपदी की विवशता की मार्मिक अभिव्यक्ति की है!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कई दिनों से मैं ब्लॉग की दुनियां से कटा कटा रहा ... तो मैं आपकी पोस्ट पर नही आ पाया ...

    कोरवों की तरह तमाशबीनों की दुनियां में देवकीनंदन मात्र कल्पना सी है।
    रचना अच्छी है.

    यहाँ पर आपका इंतजार रहेगा: शहरे-हवस

    उत्तर देंहटाएं
  3. "सुनकर उसका
    कारुणिक क्रंदन
    नहीं आया कहीं से
    एक भी देवकीनंदन"


    संवेदनहीन हो रहे समाज की वास्तविकता - साकार प्रस्तुति - अति सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  4. दुशासनों की फ़ौज देख देवकीनंदन ने शायद ऑंखें मूंद ली है ...अब खुद आज द्रोपदी को अपनी रक्षा के लिए स्वयं कदम उठाने होगें ..गूंगी-बहरी होती मानसिकता के बीच आखिर कितने उम्मीद रखे ..बहुत अच्छी गहन सम्वेंदना से उपजी सार्थक प्रस्तुति ..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. चिरनिद्रा में सोकर खुद,आज बन गई कहानी,
    जाते-जाते जगा गई,बेकार नही जायगी कुर्बानी,,,,

    recent post : नववर्ष की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रतीक्षा है सूर्योदय की... नव वर्ष की शुभकामनाओं के साथ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत मार्मिक...नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  8. देवकी नंदन जरूर आएंगे .. पहले खुद में पौरुष जगाना होगा ...
    बहुत ही मार्मिक चित्रण है ... पर कडुवा सत्य लिखा है ..
    २०१३ की मंगल कामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं

मार्गदर्शन और उत्साह के लिए टिप्पणी बॉक्स हाज़िर है | बिंदास लिखें|
आपका प्रोत्साहन ही आगे लिखने के लिए प्रेरित करेगा |

 

WWWW

loading...