बुधवार, जून 19, 2013

- तेरी यादें –

 

सांझ के ढलते ही
मुझे पाकर तन्हा ,
सताने बेपन्हा
यूं दबे पांव ,
तेरी यादों का चले आना
तुम्ही कहो ये कोई बात है ?
 
बैठकर पहलू मे, मेरे
कांधे से लिपटकर, 
रातभर सिसक कर ,
देती हैं मुझे उलाहने पे उलाहना
तुम्ही कहो ये कोई बात है ?
 
अरुणोदय आँखों में, कुछ
ख्वाबों को छोड़कर,  
कुहासे को ओढ़कर 
तेरी यादों का चुपके से चले जाना
तुम्ही कहो ये कोई बात है ?


 


-विक्रम   

 

Related Post

widgets by blogtips

8 टिप्‍पणियां:

  1. असल बात तो यही है ...बहुत सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर भावों की अभिव्यक्ति आभार . यू.पी.की डबल ग्रुप बिजली आप भी जानें संपत्ति का अधिकार -४.नारी ब्लोगर्स के लिए एक नयी शुरुआत आप भी जुड़ें WOMAN ABOUT MAN मर्द की हकीकत

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब ... अगर उनकी यादें न हों तो नींद न आने पे साथ कौन देगा ...
    गहरा एहसास प्रेम का ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत भावपूर्ण और प्रेममयी अभिव्यक्ति...बहुत ख़ूबसूरत..

    उत्तर देंहटाएं

मार्गदर्शन और उत्साह के लिए टिप्पणी बॉक्स हाज़िर है | बिंदास लिखें|
आपका प्रोत्साहन ही आगे लिखने के लिए प्रेरित करेगा |