रविवार, जुलाई 28, 2013

- यादों का ज्वार-भाटा–

जब दिल के
समुन्द्र मे
तेरी यादों का ज्वार-भाटा
ठांठे मारने लगता है।  
तब में,
कागज की कस्ती और
कलम की पतवार लेकर
निकल पड़ता हूँ
समझाने
उन उफनती
लहरों को,
जो बिखर जाना
चाहती है,
तोड़कर
दिल की
मेड़ को ....
 
-विक्रम

Related Post

widgets by blogtips

14 टिप्‍पणियां:

  1. इन लहरों को बिखर जाने देन .. ये सूखती नहीं हैं ... रेत पर प्रेम की नमी बिखरा देती हैं ... सुन्दर शब्द ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर रचना और अभिव्यक्ति .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुंदर भावाभिव्यक्ति.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  4. समय अंतराल बाद ज्वार-भाटा भी उतर जाता है ...
    मनोभाव का सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

मार्गदर्शन और उत्साह के लिए टिप्पणी बॉक्स हाज़िर है | बिंदास लिखें|
आपका प्रोत्साहन ही आगे लिखने के लिए प्रेरित करेगा |

 

WWWW

loading...