रविवार, मार्च 15, 2015

अजनबी

अजनबीयत के पैबंद
लगे लिबास में
लिपटा है तुम्हारा शहर

गली मे सिकुड़कर बैठा ,
मैला कुचेला सन्नाटा
हर घड़ी घूरता है मुझे
सूनी आँखों से ।

गोद मे खामोशी को लिए
एक बिखरा साया ,
तनहाईयां ओढ़कर
अक्सर बहुत करीब से
गुजरता है ।

कुछ पुराने लम्हे
अतीत से हाथ छुड़ाकर
अक्सर चले आते हैं
मेरे पास, ज़ेहन मे कुछ
सरगोशीयां करने ।


"विक्रम"

Related Post

widgets by blogtips

2 टिप्‍पणियां:

  1. अतीत के ये लम्हे ही तो धरोहर हैं जिंदगी के ... बहुत काम आते है ये आज की अजनबी दुनिया में ...

    उत्तर देंहटाएं

मार्गदर्शन और उत्साह के लिए टिप्पणी बॉक्स हाज़िर है | बिंदास लिखें|
आपका प्रोत्साहन ही आगे लिखने के लिए प्रेरित करेगा |