शनिवार, मार्च 18, 2017

महंत योगी आदित्यनाथ

योगी आदित्यनाथ (अजय सिंह )  का जन्म  5 जून 1972 को हुआ था। 18 मार्च  2017 को इन्हे उत्तर प्रदेश का  मुख्यमन्त्री चुना गया है। ये गोरखपुर के प्रसिद्ध गोरखनाथ मंदिर के महन्त भी हैं। वे 2014 लोक सभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर गोरखपुर से लोक सभा सांसद चुने गए। वे 1998 से लगातार इस क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। आदित्यनाथ गोरखनाथ मंदिर के पूर्व महन्त अवैद्यनाथ के उत्तराधिकारी हैं। वह हिन्दू युवा वाहिनी के संस्थापक भी हैं, जो कि हिन्दू युवाओं का सामाजिक, सांस्कृतिक और राष्ट्रवादी समूह है।

आदित्यनाथ बारहवीं लोक सभा (1998-99) के सबसे युवा सांसद थे। उस समय उनकी उम्र महज 26 वर्ष थी। उन्होंने गढ़वाल विश्विद्यालय से गणित से बी.एस.सी किया है। उन्होंने धर्मांतरण (जैसे निम्न वर्ग हिंदुओं को ईसाई बनाना) गौ वध रोकने की दिशा में सार्थक कार्य किये हैं। वे 2017 तक गोरखपुर से लगातार 5 बार से सांसद हैं।

योगी आदित्यनाथ सबसे पहले 1998 में गोरखपुर से चुनाव भाजपा प्रत्याशी के तौर पर लड़े और तब उन्होंने बहुत ही कम अंतर से जीत दर्ज की। लेकिन उसके बाद हर चुनाव में उनका जीत का अंतर बढ़ता गया और वे 1999, 2004, 20092014 में सांसद चुने गए।[4] योगी जी ने अप्रैल २००२ मे हिन्दु युवा वाहिनी बनायी जिसके कार्यकर्ता पूरे देश मे हिन्दु धर्म विरोधी कार्यो को रोकने का काम कर रहे है।

7 सितम्बर 2008 को सांसद योगी आदित्यनाथ आजमगढ़ में जानलेवा हिंसक हमला हुआ था। इस हमले में वे बाल-बाल बच गये। यह हमला इतना बड़ा था की सौ से अधिक वाहनों को हमलावरों ने घेर लिया और लोगों को लहुलुहान कर दिया।उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री योगी आदित्य‍नाथ एक बार लोकसभा में यूपी पुलिस की बर्बरता का वर्णन करते हुए रो पड़े थे. प्रखर एवं उग्र हिंदुत्व के पोषक माने जाने वाले आक्रामक बीजेपी नेताओं में गिने जाने वाले योगी आदित्यनाथ लोकसभा में जोर-जोर से रोने लगे थे. वर्ष 2006 में लोकसभा में पुलिस‍ की प्रताड़ना का जिक्र करते हुए योगी रोने लगे थे, तब मुलायम सिंह यादव यूपी के सीएम थे.

वर्ष 2006 में गोरखपुर से बीजेपी सांसद योगी आदित्यनाथ ने अपनी बात रखने के लिए लोकसभा अध्यक्ष से विशेष अनुमति ली थी. तब पूर्वांचल के कई कस्बों में सांप्रदायिक हिंसा फैली थी. जब आदित्यनाथ अपनी बात रखने के लिए खड़े हुए तो फूट-फूट कर रोने लगे. कुछ देर तक वे कुछ बोल ही नहीं पाए और जब बोले तो कहा कि उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी की सरकार उनके खिलाफ षड्यंत्र कर रही है और उन्हें जान का खतरा है।

2014 लोकसभा चुनाव में जीत हासिल कर योगी आदित्यनाथ ने 'लव जिहाद' को बड़ा मुद्दा बनाया था. इस दौरान योगी का एक वीडियो सामने आया था, जिसमें वो अपने समर्थकों से कहते सुनाई दे रहे थे कि हमने फैसला किया है कि अगर वे एक हिंदू लड़की का धर्म परिवर्तन करवाते हैं तो हम 100 मुस्लिम लड़कियों का धर्म परिवर्तन करवाएंगे.फरवरी 2015 में विश्व हिंदू परिषद के एक कार्यक्रम में योगी ने कहा कि अगर उन्हें अनुमति मिले तो वो देश के सभी मस्जिदों के अंदर गौरी-गणेश की मूर्ति स्थापित करवा देंगे. उन्होंने कहा कि काशी की मस्जिद में शिव और पार्वती विराजमान हैं. मक्का में गैर मुस्लिम नहीं जा सकता है. वेटिकन सिटी में गैर ईसाई नहीं जा सकता है. हमारे यहां हर कोई आ सकता है. वेटिकन सिटी मदर टेरेसा को संत घोषित करता है, लेकिन विदेशी भारतीय संतों को हेय दृष्टिकोण से देखते हैं.

योग के ऊपर भी विवादित बयान देते हुए योगी आदित्‍यनाथ ने कहा था कि जो लोग योग का विरोध कर रहे हैं उन्‍हें भारत छोड़ देना चाहिए. उन्होंने ने यहां तक कहा कि लोग सूर्य नमस्‍कार को नहीं मानते उन्‍हें समुद्र में डूब जाना चाहिए.  योगी आदित्यनाथ अप्रैल 2105 में कहा था कि हरिद्वार में हर की पौड़ी पर गैर हिन्दुओं को नहीं जाना चाहिए. उन्होंने कहा ये नियम पहले से ही हैं जिसे वो बस दोहरा रहे हैं.

योग के ऊपर भी विवादित बयान देते हुए योगी आदित्‍यनाथ ने कहा था कि जो लोग योग का विरोध कर रहे हैं उन्‍हें भारत छोड़ देना चाहिए. उन्होंने ने यहां तक कहा कि लोग सूर्य नमस्‍कार को नहीं मानते उन्‍हें समुद्र में डूब जाना चाहिए. योगी आदित्यनाथ अप्रैल 2105 में कहा था कि हरिद्वार में हर की पौड़ी पर गैर हिन्दुओं को नहीं जाना चाहिए. उन्होंने कहा ये नियम पहले से ही हैं जिसे वो बस दोहरा रहे हैं.

आइए आपको बताते हैं क्या है योगी आदित्यनाथ की रूटीन
योगी आदित्यनाथ रोज सूरज उगने से पहले यानि सुबह तीन बजे जग जाते हैं. इसके बाद नहा-धोकर वे पूजा करते हैं. गोरखनाथ मंदिर के महंत योगी आदित्यनाथ मंदिर के ठीक बगल वाली बिल्डिंग में ऊपर रहते हैं.

सुबह चार बजे योग करने के बाद योगी नीचे आते हैं और मुख्य मंदिर में पूजा-अर्चना करते हैं. पूजा के दौरान वे सबसे अंत में महंत अवैद्धनाथ के मंदिर में पूजा करते हैं. पूजा अर्चना के बाद योगी आदित्यानाथ गौशाला जाते हैं.गौशाला में करीब 150 से 200 गायें हैं. गौशाला की सारी गायों को योगी अपने हाथों से चारा खिलाते हैं. गौशाला से सात बजे निकलने के बाद महंत योगी आदित्यनाथ नाश्ता करते हैं. अपने खाने में वे हल्का शाकाहारी भोजन लेते हैं.आठ बजे के बाद योगी का जनता दरबार होता है. जिसमें गोरखपुर शहर के लोग आते हैं और अपनी समस्या लोग सुनाते हैं. योगी उनकी समस्याओं का निपटारा करते हैं. रात 10 से 11 बजे तक योगी सोने चले जाते हैं.

 

Related Post

widgets by blogtips

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मार्गदर्शन और उत्साह के लिए टिप्पणी बॉक्स हाज़िर है | बिंदास लिखें|
आपका प्रोत्साहन ही आगे लिखने के लिए प्रेरित करेगा |

 

WWWW

loading...